PM Kisan Yojana: अगर ई-केवाईसी के बाद भी खाते में नहीं आई किस्त, तो इन नंबरों पर करें फोन

PM Kisan Yojana: अगर ई-केवाईसी के बाद भी खाते में नहीं आई किस्त, तो इन नंबरों पर करें फोन

Prime Minister Narendra Modi ने आज लंबे समय से 12वीं किस्त का इंतजार कर रहे किसानों को 16000 करोड़ रुपए का दिवाली गिफ्ट दे दिया है.

PM Kisan Samman Nidhi Yojana 12 Kist Check 2022: दिवाली से पहले आज सोमवार को देश के करोड़ों किसानों के खातों में पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) की 2000-2000 रुपये की किस्त पहुंच गई है. आपको बता दे कि अभी बहुत से ऐसे किसान है, जिनके बैंक या आधार से जुड़े मोबाइल नंबर पर एसएमएस (SMS) तक भी आ गया होगा. अगर नहीं आया है तो आप अपना बैंक अकाउंट चेक करें. इस बार उन किसानों के खातों में पैसे अभी नहीं पहुंचे हैं, जिन्होंने अब तक ई-केवाईसी नहीं कराया है. अगर ई-केवाईसी कराने के बावजूद किस्त नहीं मिली तो आगे आपको बताएंगे कि आप कहां संपर्क करें.

16 हज़ार करोड़ रु का दिवाली गिफ्ट
मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज लंबे समय से 12वीं किस्त का इंतजार कर रहे किसानों को 16000 करोड़ रुपए का दिवाली गिफ्ट दे दिया है. पीएम नरेन्द्र मोदी ने भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली में दो दिवसीय कार्यक्रम “पीएम किसान सम्मान सम्मेलन 2022 (PM Kisan Samman) का उद्घाटन किया और 8 करोड़ से अधिक किसानों के खातों में पीएम किसानों का पैसा ट्रांसफर किया.

इतनी भेजी क़िस्त 
बता दें कि पात्र किसानों के खातों में डीबीटी के माध्यम से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत 16,000 करोड़ की राशि 2000-2000 रुपये रूप में भेजी गई है. इस बार ई-वाईसी और फिजिकल वेरीफिकेशन के चलते अगस्त-नवंबर की किस्त देर से आ रही है. बता दें कि इस योजना के तहत पात्र किसान परिवारों को 6000 रुपये प्रति वर्ष 3 समान किस्तों में लाभ दिया है. अब तक पात्र किसान परिवारों को PM-KISAN के तहत 2 लाख करोड़ की सहायता दी जा चुकी है.

इन नम्बरों पर करें कॉल 

पीएम किसान टोल फ्री नंबर: 18001155266
पीएम किसान हेल्पलाइन नंबर:155261
पीएम किसान लैंडलाइन नंबर्स: 011—23381092, 23382401
पीएम किसान की नई हेल्पलाइन: 011-24300606
पीएम किसान की एक और हेल्पलाइन है: 0120-6025109
ई-मेल आईडी: pmkisan-ict@gov.in

Categories:

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories