Rishi Anna: What is Rishi Anna? It was a topic of discussion in G20, know how it got its name and what are its benefits.

India's G20 Presidency – User Experience Design & Technology

Rishi Anna: क्या है ऋषि अन्न? G20 में चर्चा का रहा विषय, जानिए कैसे मिला नाम और क्या हैं इसके फायदे

Advantages of Milletes: हाल ही में संपन्न हुई G20 बैठक में आए मेहमानों ने भरपूर भारतीय खाद्य पदार्थों का भरपूर आनंद लिया। इसी बैठक में खासी चर्चा जिस फूड की सबसे ज्यादा रही, वह था ‘मिलेट्स’। इसके साथ ही एक और भारतीय अन्न काफी चर्चा का विषय बना जिसे हम ‘ऋषि अन्न के नाम से जानते हैं। आइए जानते हैं क्या है ऋषि अन्न? कैसे मिला इसे ये नाम और इसे खाने के क्या हैं लाभ।

Health blessings of Rishi Anna: मिलेट्स यानी मोटे अनाज के बारे में तो आपने बहुत सुना होगा। सेहत के लिए बहुत हेल्दी ये अनाज तमाम तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। मिलेट्स में ग्लूटेन की मात्रा बहुत कम पाई जाती है। इसलिए इसके सेवन से हमारे शरीर में शुगर और कोलेस्ट्रॉल जैसी समस्याएं ठीक रहती हैं। हाल ही में पूरी हुई G20 बैठक में आए हमारे विदेशी मेहमानों को बहुत से भारतीय खाद्य पदार्थों का स्वाद चखाया गया। जिसमें अलग-अलग राज्यों के तमाम व्यंजनों के अतिरिक्त जो सबसे ज्यादा चर्चा का विषय रहा है, वह है ‘ऋषि अन्न’। यह शानदार खाद्य पदार्थ न केवल विदेशी मेहमानों के लिए, बल्कि हमारे देश के बहुत से लोगों के बीच भी चर्चा का विषय बन गया। चलिए, जानते हैं क्या है ‘ऋषि अन्न’ और यह कैसे सेहत के लिए है फायदेमंद?

क्या है मिलेट्स? (what is Millets?)
मिलेट्स की बात करें तो इसमें कई तरह के मोटे अनाज शामिल हैं। मोटे अनाजमें आमतौर पर ज्वार, बाजरा और रागी को शामिल किया जाता है। इसके अलावा, कुटकी, कांगनी, कोदो और सांवा आदि जिन्हें हम छोटे अनाज कहते हैं, मिलेट्स में ही शामिल हैं। वहीं, इनके गुणों की बात करें तो कैल्शियम, आयरन, फाइबर, विटामिन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर ये अनाज पोषण का खजाना होते हैं।

क्या है ऋषि अन्न? (what’s Rishi Anna)
मिलेट्स में शामिल ‘कोदो’ को ही ऋषि अन्न कहा गया है। जिसके पीछे कारण है कि कोदो कम पानी और कम उपजाऊ भूमि में आसानी से उगाया जा सकता है। इस तरह के हेल्दी और कम मेहनत में उगाए जाने वाले अनाज को अब बहुत कम मात्रा में उगाया जा रहा है। भारत में हुई खेती की प्रगति के कारण हमारे सभी मोटे अनाजों की पैदावार आज धीरे-धीरे कम होती जा रही है।

क्या है नाम के पीछे की वजह
कोदो को ऋषि अन्न इसलिए कहा जाता है, क्योंकि इसे उगाने के लिए किसान को खेत जोतने की आवश्यकता नहीं होती है। साथ ही इसकी पैदावार में बहुत अधिक पानी की आवश्यकता भी नहीं पड़ती है। यानी न तो जानवर को कष्ट होता है, और न ही प्रकृति का दोहन होता है। अपने इन्हीं शानदार गुणों के कारण इसे ‘ऋषि अन्न’ नाम दिया गया है।

ऋषि अन्न के फायदे (blessings of Rishi Anna)
कोदो में भरपूर प्रोटीन की मात्रा होती है, जो हमारे शरीर के निर्माण में शानदार भूमिका निभाता है।
कोदो में चावल के मुकाबले 12 गुना तक कैल्शियम होता है। जो इसे हमारी हड्डियों के लिए बेहतरीन बनाता है।
विशेषज्ञों के अनुसार कोदो में 7 तरह के अनाजों के गुण पाए जाते है, जो इस एक अनाज को मल्टीग्रेन जैसा हेल्दी बनाते हैं।
इसमें फाइबर भरपूर पाया जाता है जो इसे हमारे पाचन के लिए बेहतर बनाता है।
आयरन की भरपूर मात्रा इसे हमारे खून को हेल्दी रखने में सहायक बनाती है।

Categories:

No Responses

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories